Tuesday, 2 June 2015

लाला जी की लाल लंगोट

   (एक बाल कविता )

लाला जी की लाल लंगोट में
खटमल था एक लाल 
काट काट कर लाला जी को 
उसने किया बेहाल
गोल मटोल लाला जी 
गुस्से से हो गए लाल पीला 
चिल्ला कर पत्नी को आवाज दी 
नाम था जिसका लीला 
कहा है कोने में जो रखा 
काला मेरा सन्दूक 
उसमे मेरे पिताजी की 
रखी हुई है बंदूक 
बंदूक में  वो गोली भरना 
दिखे तुम्हें जो पीला 
मगर मत छूना गोली  
जो बैंगनी  है और नीला 
और उसको तो कभी ना छूना 
जिसका रंग है हरा 
सावधानी से काम करो 
सुनो मेरा मशवरा 
बंदूक निकाल कर  लीला 
गोली भर कर लायी 
लगा खटमल को निशाना 
एक गोली चलायी 
धम्म से गिरे लाला जी 
और लगे चिल्लाने  
नौकर चाकर ताऊ बेटा 
सबको लगे बुलाने 
कौन रंग की गोली भरी 
तुमने प्यारी लीला 
रंग था उसका काला 
बैंगनी या पीला 
कहा जो लीला ने सुनकर 
उड गए लाला जी के होश 
आंखे उल्टी जीभ बाहर और 
हो गए वो बेहोश
सुना लीला ने हैरत से 
मन उसका घबराया  
उसने लाला को नहीं था 
अब तक यह बताया 
उसे नहीं था रंगो का 
थोड़ा सा भी ज्ञान 
कौन हरा कौन गुलाबी 
थी लाली अंजान 
पीली वाली गोली 
खटमल मार भगाती थी 
नीली वाली गोली 
छिपकलियों को डराती थी 
लाल रंग की गोली से 
चूहे मारे जाते थे 
बैंगनी और गुलाबी से 
कौकरोच भगाये जाते थे 
पर खतरे वाली गोली का 
रंग था गहरा हरा  
लीला ने डाली थी गोली 
जिसमे बारूद था भरा 
एक खटमल के फेर में 
गयी लाला की जान 
है रंगों की पहचान जरूरी 
बच्चों लो तुम जान । 
 नीरज कुमार नीर 
Neeraj Kumar Neer 

9 comments:

  1. वाह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर बाल रचना

    इसलिए तो पढाई जरुरी है

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बृहस्पतिवार (04-06-2015) को "हम भारतीयों का डी एन ए - दिल का अजीब रिश्ता" (चर्चा अंक-1996) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जयंती - बालकृष्ण भट्ट और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर हास्य बाल रचना ... मज़ा आया बहुत ...

    ReplyDelete
  6. bacche or bade sabhi hans pade .. sunder rachana.

    ReplyDelete
  7. वाह, बहुत सुन्दर बाल कविता।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर बाल रचना

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...