Tuesday, 1 July 2014

खारे पानी के जीव


जब सूरज डूब जायेगा,
सब कुछ समा जाएगा,
महासागर की अतल गहराइयों में.
पर्वत का तुंग शिखर भी
नहीं बचेगा तृण मात्र
हड्डियों तक का नहीं रहेगा अस्तित्व.
जीवित रहेंगे फिर भी
खारे पानी के जीव ..
...............
नीरज कुमार नीर 

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति नीरज जी

    ReplyDelete
  2. अच्छी भावात्मक रचना है !

    ReplyDelete
  3. अच्छी भावात्मक रचना है !

    ReplyDelete
  4. बेहद सुन्दर

    ReplyDelete
  5. प्रभावी ... डूबने के बाद तक भी खारा पानी तो फिर भी रहेगा ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छे. सर जी

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...