Friday, 28 March 2014

धुंए का गुबार


मेरी आँखों के सामने 
रूका हुआ है 
धुएं का एक गुबार  
जिस पर उगी है एक इबारत , 
जिसकी जड़ें 
गहरी धंसी हैं 
जमीन के अन्दर.
इसमें लिखा है 
मेरे देश का भविष्य, 
प्रतिफल , इतिहास से कुछ नहीं सीखने का .
उसमे उभर आयें हैं ,
कुछ चित्र, 
जिसमे कंप्यूटर के की बोर्ड 
चलाने वाले , मोटे चश्मे वाले 
युवाओं को 
खा जाता है,
एक पोसा हुआ भेड़िया,
लोकतंत्र को कर लेता है , 
अपनी मुठ्ठी में कैद 
और फिर फूंक मारकर 
उड़ा देता है उसे 
राख की तरह 
मानो यह कभी था ही नहीं. 
बन जाता हैं स्वयं शहंशाह 
टेलीविजन पर बहस करने वाले 
बड़े-बड़े बुद्धिजीवि 
भिड़ा रहे हैं जुगत ,
अपनी सुन्दर बीवियों और 
बेटियों को छुपाने की
धुआं धीरे धीरे नीचे उतर कर 
आ जाता है जमीन पर, 
पत्थर के पटल पर 
मोटे मोटे अक्षरों में दर्ज
हो जाता है इतिहास. 
मैं अपनी आँखों के सामने 
इतिहास बदलते देख रहा हूँ ..

(बात अगर दिल तक पहुचे एवं विचार से सहमत हों तो अपने कमेन्ट अवश्य दें )

नीरज कुमार नीर
#NEERAJ_KUMAR_NEER
चित्र गूगल से साभार 

18 comments:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 29/03/2014 को "कोई तो" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1566 पर.

    ReplyDelete
  2. जिन्दगी क्या है, एक धुएँ का गुबार है !
    प्रेम यदि इस में न् होतो, समझो कि यह बेकार है !!

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  4. बड़े-बड़े बुद्धिजीवि
    भिड़ा रहे हैं जुगत ,
    अपनी सुन्दर बीवियों और
    बेटियों को छुपाने की sahi bat apni ko chhipate hai par dusron ki kise khabar ?sundar bhaw .....

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब ... आपका बिलकुल नया कलेवर

    ReplyDelete
  6. धीरे धीरे सब कुछ धुंए कि गुबार में ही तो बस्ता जा रहा है ... जो उड़ जाएगा एक ही पल में फूंक मार के ... गहरी बात लिखी है ...

    ReplyDelete
  7. आपको ये बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि आपका ब्लॉग ब्लॉग - चिठ्ठा - "सर्वश्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉग्स और चिट्ठे" ( एलेक्सा रैंक के अनुसार / 31 मार्च, 2014 तक ) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएँ,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक आभार ..

      Delete
  8. बड़े-बड़े बुद्धिजीवि
    भिड़ा रहे हैं जुगत ,
    अपनी सुन्दर बीवियों और
    बेटियों को छुपाने की

    बधाई आपको !

    ReplyDelete
  9. Badhai ho aapko--soye hue khayalon ko ukerane ke liye. Bahut sundar hai. Mujhe sirf ek baat kahni hai---aajkal yuvon ke (vriddhon ke bhi) chashme mote nahin hote..nai technology hai..agar sirf chashmewale kahen to kaisa rahega

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय गीता जी हार्दिक धन्यवाद आपका .... मोटा चश्मा तो एक बिम्ब है , सिर्फ चश्मा रखने से भी काम चल जायेगा . लेकिन मोटा चश्मा degree बढ़ा देता है, यह इस बात का द्योतक है जो लोग सिर्फ पढने लिखने को ही अपना भविष्य देखतें हैं एवं अन्य बातें धर्म , समाज आदि उन्हें बोझ एवं गलत लगता है .. उनकी गति आने वाले समय में अच्छी नहीं रहने वाली .. लोकतंत्र हमेशा ऐसा ही नहीं रहने वाला .. :) सादर आभार .. नीरज कुमार नीर

      Delete
  10. अदभूत भाई ! बहुत ही खूब!!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...