Monday, 17 March 2014

कान्हा खेलें होरी


आ रे कारे बादर 
रँग बरसाने आ रे 
कान्हा  खेलें होरी 
तू बरसाने आ रे

रँग अलग अलग भर ला 
लाल, बैंगनी, पीला
कोई बच ना जाए 
सबको कर दे गीला 
खुशियों की बारिश में 
तू भिंगाने आ रे

इन्द्रधनुष से रँग ला 
त्याग उदासी काली 
उल्लसित जीवन, डाल 
मुख पे उमंग लाली ..
जो उदास है जग में 
उन्हें हँसाने आ रे.

हाथों में पिचकारी
गाल पे रंग गुलाल 
सब मिल खेलें होरी 
अंचल धरा का लाल
जीवन में खुशियाँ भर 
हर्ष जगाने आ रे.

श्याम भींगे सर्वांग 
गोपियाँ राधा संग 
अंग उल्लास निखरे 
रँग, रँग, हर एक अंग .
रँग ना छूटे पाए 
ऐसो रंग लगा रे.

...  #नीरज कुमार नीर 
#neeraj_kumar_neer 
(बरसाने का दो अर्थ में प्रयोग समझें)
चित्र गूगल से साभार 
#holi #होली  #rang #रंग #pichkari #shyam #gopi 

9 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ,आपको भी सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति...!
    सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाए ....
    RECENT पोस्ट - रंग रंगीली होली आई.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर गीत
    होली की हार्दिक शुभकामनाऐं ।
    new post: ... कि आज होली है !

    ReplyDelete
  4. एक और होली का मधुर गीत ... बधाई ...
    आपको और परिवार में सभी को होली कि हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति .होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना.... होली की शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना है !
    मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  8. सुन्दर होली रचना।।
    आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।।

    नई कड़ियाँ : इंटरनेट डोमेन क्या है ?
    25 साल का हुआ वर्ल्ड वाइड वेब (WWW)

    ReplyDelete
  9. होली रंग बिरंगे भर दे।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...