Sunday, 23 February 2014

वसंत नहीं आता


शहर की गंदी बस्तियों में 
कभी भी वसंत नहीं आता. 

नलों  की लंबी लाइनों  में 
बजबजाती  सड़ी नालियों में, 
सर टकराते छप्परों में 
औरतों की नित गालियों में, 
रोज रोज की हुज्जतों का 
कभी भी अंत नहीं आता. 

झूठ पाखण्ड अंधविश्वास 
की खूब महफ़िल सजती है. 
पंडितों और मौलाना की 
मन मर्जी खूब चलती है. 
असमय होती मौतों का पर
कभी भी अंत नहीं आता .
शहर की गंदी बस्तियों में 
कभी भी  वसंत नहीं आता.

कुत्तिया के पिल्लों के संग 
सुगिया की बच्ची पलती है. 
भूख की आग में न जाने 
कितनी उम्मीदें जलती है. 
अपूर्ण रहे उम्मीदों का 
कभी भी अंत नहीं आता.
शहर की गंदी बस्तियों में 
कभी  वसंत नहीं आता.

शिशुओं के नाजुक कन्धों  पर 
बस्ते की जगह में भार है. 
उसकी कमाई से चलता 
उसका बीमार  परिवार है. 
दुःख है उनकी जीवन नियति 
दुःख का अंत नहीं आता.
शहर की गंदी बस्तियों में 
कभी  भी वसंत नहीं आता.
…………. नीरज कुमार नीर
#neeraj_kumar_neer 

16 comments:

  1. sahi bat hai aise men basant ka aana kahan sambhaw ho pata ..dil kebhawon ki sundar prastuti ......

    ReplyDelete
  2. शिशुओं के नाजुक कन्धों पर
    बस्ते की जगह में भार है.
    उसकी कमाई से चलता
    उसका बीमार परिवार है.
    बहुत सुंदर रचना.इन हालातों में वसंत की बात बेमानी है.

    ReplyDelete
  3. मर्मस्पर्सी रचना ...!!! इस दयनीय स्थिति में बसंत आने का कोई मतलब नहीं उनके लिए ....

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति- -
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  5. बसंत तो आज भी आता है पर खो के रह जाता है ... अभागा है इंसान जो खुद के बनाए जाल में फंस कर कुछ भी देख नहीं पाता ...

    ReplyDelete
  6. कभी वहाँ की भी ऋतु बदले।

    ReplyDelete
  7. बसंत भी समृद्धों की धरोहर है ....और गरीब.....उसके पास समय ही कहाँ है ...खूबसूरती निहारने का ......जब आंतें भूख से कुलबुलातीं हों .....तो सिर्फ एक ही मौसम रहता है ...भूख का.....

    ReplyDelete
  8. कड़वी सच्चाई .....सुन्दर रचना ....

    ReplyDelete
  9. कल 27/02/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. महीन नज़र से आपने कविता के माध्यम से जिस सच्चाई का वर्णन किया है वह बहुत ही प्रशंसनीय है.

    ReplyDelete
  11. वाह......दिल छू लेने वाली रचना .....दो समय की रोटी की जुगत में वसंत छिप सा जाता है ..

    ReplyDelete
  12. मर्मस्पर्सी रचना

    ReplyDelete
  13. संसार के निर्मम यथार्थ को उजागर करती बहुत ही उत्कृष्ट रचना ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...