Tuesday, 21 January 2014

एकलव्य का अंगूठा


संस्कृति का क्रम अटूट
पांच हज़ार वर्षों से 
अनवरत घूमता
सभ्यता का 
क्रूर पहिया.
दामन में छद्म ऐतिहासिक
सौन्दर्य बोध के बहाने
छुपाये दमन का खूनी दाग,
आत्माभिमान से अंधी
पांडित्य पूर्ण सांस्कृतिक गौरव का
दंभ भरती 
सभ्यता.
मोहनजोदड़ो की कत्लगाह से भागे लोगों से
छिनती रही 
अनवरत, 
उनके अधिकार,  
किया जाता रहा वंचित, 
जीने के मूलभूत अधिकार से, 
कुचल कर  सम्मान 
मिटा दी गयी
आदमी और पशु के बीच की
मोटी सीमा.
छीन लिया उनका भगवान भी 
कर दिया स्थापित 
अपने मंदिर में 
बनाकर महादेव.
अपना कटा अंगूठा लिए एकलव्य 
फिरता रहा जंगल जंगल
रिसता  रहा उसका खून 
सदियों से वह भोग रहा है असह्य पीड़ा. 
बिजलियों सी कौंध रही है 
धनुष चलाने की 
उसकी इच्छा है दमित . 
द्रोणाचार्य की आरक्षित विद्या 
देश, समाज को सदा नहीं रख सकी सुरक्षित.
यवनों ने अपनी रूक्षता के आगे 
कर दिया घुटने टेकने को मजबूर.
सदियों सिजदे में झुका रहा सर.
झुके हुए सर से भी  नहीं देखा 
नीचे एकलव्य के अंगूठे से रिसता खून 
बंद कर लिया स्वयं को 
शंख शल्क में.
खंडित शौर्य एवं अभिमान के बाद भी 
एकलव्य की पीड़ा अनदेखी रही 
मोहनजोदड़ो की कत्लगाह की 
सीमा अब फ़ैल रही है 
जंगलों , घाटियों और कंदराओं तक , 
अब पर्ण कुटियों के नीचे खोजा जा रहा है  
कीमती धातु , कोयला, लोहा, यूरेनियम , सोना.
अपनी जमीन और जंगल से किये जा रहे हैं विस्थापित
कभी भय से कभी लालच देकर , 
एकलव्य के कटे अंगूठे में अभी भी है प्राण,
अभी भी है छटपटाहट 
पुनर्जीवित होने की और 
खीचने की प्रत्यंचा.
एक दिन एकलव्य का अंगूठा 
जुड़ जाएगा और
वह वाण पर रखकर तीर 
उसी अंगूठे से खीचेगा प्रत्यंचा 
और भेदेगा 
द्रोणाचार्य के आत्माभिमान को 
लग जाएगी आग सोने के खानों में. 

.... नीरज कुमार नीर #neeraj_kumar_neer
(अगर बात दिल तक पहुचे तो अपनी टिप्पणी अवश्य दें )

चित्र गूगल से साभार 


15 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीयचर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. http://bulletinofblog.blogspot.in/2014/01/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  3. एकलब्य के कटे अंगूठे में अभी भी प्राण है .... क सुंदर वर्णन पांच हज़ार वर्षों के छटपटाहट को.. बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  4. ऐतिहासिक और पौराणिक परिप्रेक्ष्य में आधुनिक पीड़ा आपने बेहद खूबसूरत तरीके से प्रस्तुत की है. बेजोड़ शब्दबाण है यह. अति सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  5. बात दिल तक न पहुँचे ऐसा संभव ही नहीं ... भावनाओं का उबाल है जो झिंझोड़ कर रख दे आत्मा को।
    पीड़ा का जैसे शब्दों से प्रसारण हो रहा है ... निशब्द हूँ

    ReplyDelete
  6. एकलव्य का दर्द है आपकी रचना के हर शब्द में
    भावपूर्ण अहसास....
    http://mauryareena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. बात जिनके दिल तक पहुँचती है
    उनके ही दिल किसी काम के नहीं होते
    ऐसे बेदिलों के दिल ही दिल लगाते है
    दिल से निकली बात को दिल तक
    पहुँचाने में :)

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर रचना......

    ReplyDelete
  9. रचना का हर शब्द एकलव्य की वेदना को झंकृत करता है ! जिस दिन यह कटा अँगूठा जुड़
    जायेगा भारत के भविष्य की इबारत सुनहरे अक्षरों से लिखी जायेगी ! बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  10. सच है एक वर्ग जिसका प्रतिनिधत्व एकलव्य करता है उसका अधिकार ,योग्यता को उसके अंगूठा काटकर पंगु बना दिया गया है ! वही अभिमानी .घमंडी शोषक वर्ग बलशाली यवन के सामने सर झुकाकर उनकी स्तुति करते रहे परन्तु अभी तक अपनी भूल को सुधारने की कोई कार गर कोशिश नहीं की .इसीलिए आपका कहना-..." जिस दिन यह कटा अँगूठा जुड़ जायेगा भारत के भविष्य की इबारत सुनहरे अक्षरों से लिखी जायेगी !" उचित है ..बहुत सुन्दर
    नई पोस्ट मौसम (शीत काल )
    नई पोस्ट बोलती तस्वीरें !

    ReplyDelete
  11. पौराणिक परिपेक्ष्य मे लिखी गई बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब .. एकलव्य एक विचार है ... एक हाव है जो नेतिक और अनेतिकता के भाव को समाज में दर्शाता है ... बहुत ही उम्दा, प्रभावी और दिल के गहरे तक उतरने वाली रचना है ...

    ReplyDelete
  13. क्षमतायें वंचित रहें तो क्रंदन होता ही है।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...